धर्म

लक्ष्मी कुबेर यज्ञ का जीवन मे विशेष महत्व

रविवार से शुरु हुए प्रवचन

जीवन में सुख-समृद्धि पाने के लिए लक्ष्मी कुबेर यज्ञ का विशेष महत्व- पंडित मयंक शर्मा
सादगी के साथ निकाली कलश, आस्था के साथ श्रद्धालुओं ने लगाए जयकारे

सीहोर,  एमपी मीडिया पाइंट

शहर गाड़ी अड्डा स्थित राधा कृष्ण मंदिर में महिला मंडल के तत्वाधान में रविवार से आरंभ हुए श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ के पहले दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने आस्था और सादगी के साथ कलश यात्रा निकाली और राधा-कृष्ण के जयकारे लगाए। इस मौके पर पंडित मनोहर शर्मा, पवन व्यास, मयंक शर्मा, कुणाल व्यास, पियुष शर्मा और प्रियांशु दीक्षित आदि के मार्गदर्शन में यजमान गोपाल कालड़ा, उषा कालड़ा, बनवारी छाबड़ा उर्मिला छाबड़ा, निखिल छाबड़ा, साक्षी छाबड़ा, रमेश तुतलानी, बेबी तुतलानी, मुकेश आहुजा, रेखा आहुजा, वासु चोपड़ा रेखा चोपड़ा, जितेन्द्र बत्रा दीपा बत्रा, विनोद दासवानी आदि शामिल थे।

जिन्होंने क्षेत्र की सुख-समृद्धि आदि के लिए दिव्य यज्ञ के दौरान आहुतियां दी। इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार रविवार से आरंभ हुए दिव्य यज्ञ के पहले दिन मंदिर में विशेष अभिषेक का आयोजन किया गया। इसके उपरांत माता शीतला मंदिर से एक सादगी पूर्ण कलश यात्रा निकाली गई जो राधा कृष्ण मंदिर पर समापन हुई।
मंदिर परिसर में प्रवचन का आयोजन
रविवार को प्रवचन के पहले दिन पंडित मयंक शर्मा ने कहा कि श्री राधा कृष्ण महिला मंडल के तत्वाधान में सभी की मनोकामनाएं पूर्ण हो इसके लिए दिव्य यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। जीवन में सुख-समृद्धि पाने के लिए लक्ष्मी कुबेर यज्ञ का विशेष महत्व शास्त्रों में बताया गया है। यह यज्ञ हर व्यक्ति और घर के लिए जरुरी होता है। इस यज्ञ की मदद से घर के हर सदस्य की धन सम्बंधित समस्याओं का अंत बड़ी आसानी से हो जाता है। यदि आपके जीवन में धन से जुड़ी हुई समस्याएं व्याप्त हैं। उन्होंने कहा कि अगर मानव इससे बचना चाहता है और अपनी जिंदगी में सुख शांति चाहता है तो उसे अपने भीतर के विकारों को खत्म करना होगा। उन विकारों के खत्म होते ही इन भीतरी चोरों को खत्म नहीं कर सकता। इन्हें खत्म करने के लिए जरूरत है एक ऐसे पूर्ण ब्रह्मज्ञानी संत की जो खुद अपने भीतर के विकारों को खत्म किए हुए हो और हर मानव को भी वही ब्रह्मज्ञान रूपी तरीका दे, जिससे विकार नष्ट हो जाए और वह परम आनंद को प्राप्त कर ले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close