राष्ट्रीय

पाकिस्तान में इमरान की टीम आलआऊट

पाक कोई चला पांच साल,, रिकॉर्ड बरकरार

पाकिस्तान में इमरान की टीम आलआऊट

एजेंसी ,
पाकिस्तान में सियासती खेल ने आखिरकार रंगत बदल ही ली। जमीनी राजनीति में भूचाल आ गया है. पाकिस्तानी संसद में वोटिंग में प्रधानमंत्री इमरान सरकार की हार हो गई है।

ताजा जानकारी के मुताबिक़ पाकिस्तान में जारी राजनीतिक अस्थिरता के बीच अब इमरान खान की सरकार गिर गई है.

आज पाकिस्तानी संसद में इमरान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग में उनकी सरकार की हार हो गई. 174 वोट इमरान खान के खिलाफ पड़े. इमरान की पार्टी के सांसद वोटिंग के दौरान सदन से बाहर रहे. वोटिंग के दौरान सिर्फ विपक्ष के सांसद मौजूद रहे.
बता दें कि पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश ने रात 12 बजे सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे खोलने का फैसला किया था, क्योंकि नेशनल असेंबली के अध्यक्ष असद कैसर ने प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान की अनुमति नहीं दी थी. ऐसे में कोर्ट के आदेश के बाद अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग आधी रात में हुई.

अब जब इमरान खान की सरकार गिर गई तो ऐसे में पाकिस्तान के अगले प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ हो सकते हैं. विपक्ष ने शहबाज शरीफ के चेहरे को आगे किया है.

वोटिंग के ठीक पहले स्पीकर ने इस्तीफा दे दिया

आपको बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग के ठीक पहले स्पीकर ने इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद उनकी जगह दूसरे नेता स्पीकर के चेयर पर बैठे. बता दें कि पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ पेश अविश्वास प्रस्ताव पर आज नेशनल असेंबली में बहस हुई और फिर अब मतदान हुई जिसमें इमरान सरकार की हार हो गई है.
इमरान खान की सरकार गिरने पर पाकिस्तान के पूर्व सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने कहा है कि पाकिस्तान के लिए आज का दिन दुखद रहा. उन्होंने कहा कि लुटेरों की घर वापसी हो गई है. फवाद चौधरी ने कहा कि अभी हाल ही में प्रधानमंत्री इमरान खान को प्रधानमंत्री आवास से विदा किया गया है. वे शालीनता से वहां से चले गए हैं. एक पाकिस्तानी होने पर गर्व महसूस कर रहा हूं और उनके जैसा नेता पाकर धन्य हूं.

8 मार्च को पीएम इमरान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था

जानकारी दें कि पाकिस्तानी नेशनल असेंबली में कुल 342 सदस्य हैं, जिसमें 172 बहुमत होता है. पीटीआई के नेतृत्व वाला गठबंधन 179 सदस्यों के समर्थन से बनाया गया था, जिसमें इमरान खान की पीटीआई में 155 सदस्य थे. वहीं पीटीआई द्वारा अपने प्रमुख सहयोगी मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट पाकिस्तान (एमक्यूएम-पी) को खोने के बाद इमरान खान को एक बड़ा झटका लगा था और विपक्षी दल ने 8 मार्च को पीएम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close