मध्यप्रदेश

क्या होगा 13 दिसंबर को….? कोर्ट करेगा तय पंचायत चुनाव का भविष्य

पंचायती चुनाव

क्या होगा 13 दिसंबर को….?
कोर्ट करेगा तय पंचायत चुनाव का भविष्य

एमपी मीडिया पॉइंट भोपाल

13 दिसंबर को देश का उच्चतम न्यायालय तय करेगा कि मध्य प्रदेश में पंचायती चुनाव का भविष्य क्या होगा? यानि 13 दिसंबर को अगली सुनवाई के बाद कोर्ट अपना फैसला दे सकता है।
ज्ञातव्य है मध्य प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा त्रि स्तरीय पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी जरा दी गई है। जिसके अनुसार आगामी 23 फरवरी 22 तक प्रदेश के ग्राम्यांचलों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। इन पंचायत चुनावों को 2014 के आरक्षण के आधार पर कराने का निर्णय लिया गया है। इसको लेकर कांग्रेस ने 2019 के आरक्षण को आधार मानकर चुनावी प्रक्रिया पूर्ण करने की वकालत की है।
कांग्रेस नेता सय्यद जाफर और जया ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में रिट पिटीशन याचिका में कोरोना के ओमिक्रोन वेरियंट का भी हवाला देकर चुनाव टालने की मांग की गई है लेकिन सुप्रीम कोर्ट में अब 13 दिसंबर याचिका पर सुनवाई होगी। इससे पहले पंचायत चुनाव को लेकर मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में दायर की गई कई जनहित याचिकाओं में से एक में कहा गया कि पंचायत चुनाव कहीं कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन को और बल ना दे दे। कोविड की तीसरी लहर दस्तक दे सकती है और ऐसे में पंचायत चुनाव इस समय रोक देने चाहिए। इस याचिका पर भी सुनवाई होनी है। इसके बाद ही पंचायत चुनाव का रास्ता साफ हो पाएगा।
इससे पहले एमपी पंचायत चुनाव को लेकर हाईकोर्ट में भी दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए एमपी हाईकोर्ट ने पंचायत चुनाव पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। कोर्ट ने राज्य निर्वाचन आयोग के उस तर्क को कोर्ट ने मान लिया,जिसमे कहा गया था कि एक बार निर्वाचन अधिसूचना जारी होने के बाद चुनाव स्थगित नहीं किया जा सकता। हाईकोर्ट में जो दायर याचिका में कोरोना के बढ़ने की भी दलील देते हुए कहा गया था कि कोरोना से बचाव के लिए कितनी भी ऐहतियात बरतना जरूरी है। याचिकाकर्ता के वकील का कहना है कि चुनाव के दौरान होने वाली भीड़भाड़ को रोकने के लिए फिलहाल पंचायत चुनाव पर रोक लगना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close