सिहोरसीहोर

फसल कटाई का दौर,बारिश होने से किसान हो रहे हैं चिंतित

शाजापुर, एमपी मीडिया पॉइंट

 

मौसम का मिजाज एकाएक बदल सा गया है, रविवार को रुक-रुककर हलकी बारिश का दौर चलता रहा। इससे गर्मी व उमस से लोगों को राहत तो मिली लेकिन दूसरी ओर किसान फसल को लेकर चिंतित हो गए। दरअसल, कटाई व साफ-सफाई के इस दौर में हुई बारिश का होना उपज की सेहत के लिए अच्छे संकेत नहीं है। हालांकि अनेक किसानों की उपज कट चुकी है तो कई किसान ऐसे हैं जिनके यहां फसल कटाई का कार्य चल रहा है।

रविवार को आसमान पर सुबह से ही हलके बादल छाए रहे। कभी धूप तो कभी छांव भरा वातावरण रहा। लेकिन दोपहर बाद गहरे बादल छाने लगे। इसके बाद रिमझिम बारिश का दौर चल पड़ा। सड़क पानी से तरबतर हो गई।

चौबीस घंटे में एक इंच बारिश

मौसम पर्यवेक्षक सत्येंद्र धनोतिया ने बताया कि रविवार को अधिकतम तापमान 31.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया है जबकि न्यूनतम तापमान 17.7 डिग्री रहा। इस दिन बारिश की बात करें तो सुबह तक क्षेत्र में 7 मिमी बारिश हुई थी जबकि रविवार शाम तक 23 मिलीमीटर पानी बरसा। इस तरह करीब एक इंच बारिश 24 घंटे में हो गई।

फसल सुखाने के लिए समस्या

शनिवार व रविवार दो दिनों तक बारिश वाला माहौल रहने से ऐसे किसान तो चिंतित हैं जिनके यहां फसल की कटाई अभी नहीं हुई वहीं वह किसान भी समस्या में है जिन्हें खुले स्थान पर फसल सुखाना है। क्योंकि वे उपज को विक्रय करना चाहते हैं लेकिन नमी वाली सोयाबीन के दाम मंडियों में कम मिल रहे हैं ऐसे में उपज को वह सुखाने के लिए धूप निकलने का रास्ता देख रहे हैं। लेकिन दो दिनों से रूक थमकर हो रही बारिश ने किसानों को चिंता में डाल दिया है।

शहर में फिर शुरू हुई बारिश

आगर मालवा। मानसून समाप्ति के बाद भी रविवार दोपहर पौने 4 बजे से शहर में फिर बारिश शुरू हो गई। कभी धीरे तो कभी तेज पानी शाम तक बरसता रहा। पानी गिरने के कारण शहर में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया, वहीं किसान इस बेमौसम बारिश से परेशान हो उठे। क्योंकि अधिकांश किसान सोयाबीन व अन्य फसलों की कटाई कर रहे हैं तो कुछ किसानों ने सोयाबीन निकालकर खलिहान में रख रखी है। दोनों ही परिस्थितियों में किसानों को इससे नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है। जानकारों के अनुसार बीते 1 घंटे तक करीब 10 एमएम बारिश हो चुकी है।

झमाझम बारिश

तनोड़िया। रविवार को क्षेत्र के मौसम में बदलाव हुआ। शाम को झामझाम बारिश का दौर चला। शाम करीब 4 बजे से लेकर 4.30 तक आधे घंटे तक तेज बारिश हुई। नगर के कृषक मुकेश पाटीदार ने बताया कि अब जो पानी गिर रहा है यह अगली गेंहू, चने, रायड़ा फसलों की तैयारी के लिए लाभदायक सिद्ध होगा। अब हो रही बारिश से किसानों को फायदा ही होगा। सभी खेत खाली हो चुके हैं, अगली फसलों की तैयारी में फायदेमंद रहेगा।

एक घंटे झमाझम बारिश

बड़ौद। रविवार को प्रातः 4 बजे मौसम परिवर्तन के चलते बूंदाबांदी के साथ सड़कें गीली हो गई और शाम को फिर 4 बजे एक घंटे की बारिश से नालियों में पानी बह निकला। इससे मवेशियों को खिलाने के लिए रखा भूसा भी खराब हो रहा है।

झमाझम बारिश से भीगी फसल

कालीसिंध। क्षेत्र में शनिवार को दिन व रात्रि में रिमझिम बारिश के बाद रविवार को दोपहर में घने काले बादल छाए और तीन बजे से बिजली की चमक, गरज के साथ झमाझम बारिश शुरू हो गई, जो देर शाम तक जारी थी। ऐसे में खेतों में कटी हुई सोयाबीन की फसल भीग गई। पिछले दिनों से मौसम में दिन में गर्मी व रात को हल्की सर्दी महसूस हो रही थी, वहीं बारिश के बाद मौसम में ठंडक घुल गई। क्षेत्र के किसानों के अनुसार इस बारिश से रायड़ा, चना बोवनी में लाभ मिलेगा, तो प्या को आंशिक नुकसान की आशंका बढ़ गई गई। लहसुन, गेहूं, आलू की बोवनी में भी कुछ दिनों का इंतजार करना करना पड़ेगा।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close