UNCATEGORIZED

कुपोषण को समाप्त करना सभी की सामूहिक जिम्मेदारी- संभागायुक्त श्री कियावत

कुपोषण को समाप्त करने जिले में बाल आरोग्य संवर्धन अभियान प्रारंभ

सीहोर,एमपी मीडिया पॉइंट

समाज में कुपोषण कलंक की भांति है।इसे समाप्त करना हम सभी की सामूहिक जिम्मदारी है। यह बात भोपाल संभागायुक्त कविन्द्र कियावत ने टाउन हाल सीहोर में बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम के तहत पोषण मित्र तथा कुपोषित बच्चों के अभिभावकों के उन्मुखीकरण कार्यशाला में कही। श्री कियावत कहा कि सीहोर जिले में कुपोषित बच्चों की संख्या बहुत कम है। महिला बाल विकास विभाग का अमला और पोषण मित्र पूरी गम्भीरता से प्रयास करें तो कुपोषण को पूरी तरह समाप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रायः हर घर में पर्याप्त पोष्टिक आहार होता है लेकिन बच्चे को उचित मात्रा एवं समय-समय पर खिलाने में लापरवाही कर जाते हैं। जिससे बच्चा कुपोषित हो जाता है। उन्होंने कहा कि आवश्यकता केवल इस बात की है कि ऐसे बच्चों को पौष्टिक आहार संतुलित मात्रा में समय-समय पर दिया जाए। कुपोषित बच्चों को पर्याप्त मात्रा में पौष्टिक आहार समय पर खिलाये जाने में पोषण मित्र की महत्वपूर्ण भूमिका है। संभागायुक्त श्री कियावत ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से कि उनका ऐसे बच्चों के परिजनों से सीधा सम्पर्क रहता है। वे हर रोज ऐसे बच्चों के घर जाकर अपने  बच्चे की भांति ही उसे पोष्टिक आहार खिलाएं। इससे बच्चा जल्द कुपोषण से बाहर आ जाएगा। उन्होंने पोषण मित्रों से कहा भी अपने संरक्षित बच्चे के घर जाकर उन्हें पोष्टिक आहार खिलाया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसे बच्चों के अभिभावकों कों घर पर बाड़ी में हरी सब्जी लगाने के लिए बीज दिया जाए। इसके साथ ही उनकी पात्रतानुसार शासन की अन्य योजनओं का भी लाभ दिलाया जाए। श्री कियावत ने कहा कि बच्चों को पुष्ट बनाने में आयुर्वेदिक तेल का भी महत्व है। अभिभावकों को सही तरीके से बच्चों की मालिश करना बताया जाए।

कुपोषण को समाप्त करने में पोषण मित्र और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता महत्वपूर्ण भूमिका -कलेक्टर

कार्यशाला में कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने कहा कि संभागायुक्त कविन्द्र कियावत के निर्देश पर जिले से कुपोषण को पूरी तरह समाप्त करने के लिए बाल आरोग्य संवर्धन अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत जिले के अधिकारियों तथा अन्य लोगों को कुपोषित बच्चों का पोषण मित्र बनाया गया है। जिले से कुपोषण को पूरी तरह समाप्त करने में पोषण मित्रों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका है। कुपोषित बच्चे को एक निश्चित समय-सीमा में कुपोषण से बाहर निकालना इन पोषण मित्रों की जिम्मदारी होगी। श्री ठाकुर ने कहा कि आंगनबाड़ी की माध्यम से टेक होम राशन या मिड-डे-मील के तहत जो राशन दिया जाता है, वह कई बार बच्चों की बजाय घर के परिजन ही उस खाद्यान का स्वयं उपयोग कर लेते हैं। पोषण मित्र यह भी देखेंगे कि कुपोषित बच्चों को पर्याप्त मात्रा में पोषिट और स्वादिष्ट आहार बच्चों को खिलाया जाए। कार्यशाला में एसपी श्री मयंक अवस्थी,अपर कलेक्टर श्रीमती गुंचा सनोबर, महिला बाल विकास अधिकारी प्रफुल्ल खत्री, पोषण मित्र तथा बच्चोें के अभिभावक उपस्थित थे। पोषण आहर किट का वितरण महिला बाल विकास विकास विभाग द्वारा टाउन हाल में बच्चों के लिए पौष्टिक एवं स्वादिष्ट आहार के स्टाल लगाये गये। इन स्टॉल में भिन्न-भिन्न प्रकार के आहार प्रदर्शित किए गए तथा इन्हें बनाने की विधि बताई गयी।  श्री कियावत ने सभी स्टाल का निरीक्षण किया और पोषण आहर किट के बारे में जानकारी ली। बच्चों की दी जाने वाली पोषण आहार सामग्री में आयरन, विटामिन, प्रोटीन पाउडर, मूंगफली, चना तथा गुड़ शामिल है। फल, पोषक दालें तथा मालिस की शीशी प्रदान की गयी।  कार्यक्रम में 65 बच्चों को पोषण आहार किट वितरित की गई।

कलेक्टर ने दिलाई शपथ

कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने कार्यशाला में उपस्थित अधिकारियों, पोषण मित्र, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं,सहायिकाओं एवं नागरिकों को अपने क्षेत्र के कुपोषित बच्चों को पोषित आहार उपलब्ध कराने एवं कुपोषण से बाहर लाने की शपथ दिलाई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close