UNCATEGORIZED

शासन का पीएचई विभाग पानी में ढूंढ रहा पैसा…

चुप रहने के लिए दिया सरपंच प्रतिनिधि को दो लाख रुपये का प्रलोभन

सूखे तीन नलकूप में डाल दिए सबमर्सिबल पंप

दो करोड़ 64 लाख रुपये हुए खर्च फिर भी नतीजे में सिफर

शिवराज राजपूत/विजय मालवीय
इछावर,एमपी मीडिया पॉइंट

ग्रामीणों के कंठ की प्यास बुझाने के लिए सरकार अरबों रुपये खर्च कर रही है लेकिन सरकार के इन प्रयासों पर पलीता उसी के संबंधित विभाग लगा रहे हैं।

ज्ञानसिंह राठौर,सरपंच प्रीतिनिधि ब्रिजिशनगर

ताजा मामला सीहोर जिले के इछावर ब्लाक का है जहां ग्राम पंचायत ब्रिजिशनगर में संबंधित विभाग ने शासन की नल-जल योजना का काम-तमाम कर डाला। बतादें मामला इछावर जनपद की ग्राम पंचायत ब्रिजिशनगर का हैं जहां नल-जल योजना में बड़ी गड़बड़ी सामने आई है।
दरअसल शासन द्वारा ग्राम पंचायत ब्रिजिशनगर को 2 करोड़ 64 लाख रुपए नल जल योजना के नाम स्वीकृत हुए थे।जिसमें पीएचई विभाग द्वारा तीन नलकूप उत्खनन कराए गए थे, और तीनों बोरिंग खाली निकले थे, पानी नहीं निकला था।

ग्रामीणों सहित जानकारी देते हुए सरपंच प्रतिनिधि ज्ञान सिंह राठौड़ ने बताया कि शासन की योजना नल जल में हमारे गांव में इंजीनियर एवं ठेकेदार की मनमानी को लेकर ग्रामीण सहित हम परेशान हैं।
सरपंच प्रीतिनिधि का कहना हैं, की पीएचई विभाग द्वारा तीन बोरिंग लगवाए गए थे लेकिन वह खाली निकल गए। हमारे द्वारा ग्राम के शेरसिंह मालवीय एवं रमेश राठौड़ के निजी बोरिंग से गर्मी में ग्रामीणों को पानी उपलब्ध करवाया था।

चुप रहने के लिए दे रहे हैं,सरपंच को दो लाख रुपए का ऑफर

सरपंच प्रतिनिधि ज्ञानसिंह राठौर का कहना है कि इंजीनियर एवं ठेकेदार मुझे दो लाख रुपये का ऑफर दे रहे हैं। उनका कहना है कि पाइपलाइन अपन मिलकर पीएचई द्वारा लगाए गए बोरिंगो से ही डलवा लेते हैं। सरपंच का कहना है कि मैंने साफ इनकार कर दिया। सरपंच प्रतिनिधि का कहना है कि शासन द्वारा दी गई योजना गरीबों एवं ग्रामीणों के लिए है इसमें किसी प्रकार का भ्रष्टाचार नहीं चलेगा। सरपंच प्रतिनिधि का कहना है मुझे लगातार इंजीनियर द्वारा लगातार ऑफर किया जा रहा है कि तुम दो लाख रुपए ले लो और इन्हीं बोरिंग से अपन पाइपलाइन लगवा देते हैं। पूरे मामले में सरपंच प्रतिनिधि ज्ञान सिंह राठौड़ का कहना है कि अभी तो पानी उपलब्ध है लेकिन गर्मी के मौसम में पानी नहीं रहेगा जिसके कारण ग्रामीणों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

वर्जन

यह इल्जाम बिल्कुल गलत है।यह सब बकवास है,मैंने किसी प्रकार का प्रलोभन नहीं दिया है।

नरेंद्र कुमार तारे
उपयंत्री पीएचई इछावर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close