UNCATEGORIZED

सरपंच-सचिव ने मिलकर किया पंचायत को खोखला…

सरपंच व सचिव पर ग्रामीणों ने लगाए गंभीर आरोप- किया कुछ नहीं और डकार गए लाखों रूपए..

पंचायत सरपंच व अधिकारियों ने मिलीभगत कर इस योजना के पैसों का बंदरबांट कर लिया..

ग्रामीण बोले प्रधानमंत्री आवास,शौचालय सहित सभी योजनाओं में भ्रष्टाचार..

शिवराजसिंह राजपूत/विजय मालवीय
इछावर,एमपी मीडिया पॉइंट

स्वच्छ भारत मिशन के तहत पूरे देश के शहरी व ग्रामीण इलाकों में शौचालय निर्माण कर पूर्ण रूप से बाहर शौच मुक्त गांव के लिए देश के प्रधानमंत्री द्वारा एक अभियान चलाया गया और लोगों को जागरूकता के लिए करोड़ों रुपए विज्ञापन पर खर्च किए गए।

 

सीहोर जिले के इछावर जनपद के अंतर्गत कुछ ग्राम पंचायतों में जनप्रतिनिधि सरपंच,सचिव व अधिकारी द्वारा मिलीभगत कर इस पूरी योजना का बंटाधार करके रखे हुए हैं। मामला इछावर ब्लाक के अंतर्गत ग्राम पंचायत उमरखाल का है, जहां ग्रामीणों ने सरपंच सचिव के सामने उन पर आरोप लगते हुए कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर सरपंच सचिव 10 से 20 हजार रुपए मांगते हैं।

समस्याओं की कड़ी लगातार खुलती जा रही है, सरपंच है कि ऊपर लग रहे हैं योजनाओं के नाम पर पैसे मांगने के आरोप..

ग्रामीण लक्ष्मीबाई ने बताया कि मैं कच्चे मकान में रहती हूं। मैंने प्रधानमंत्री आवास के लिए सरपंच सचिव को पंचायत में अवगत कराएं तो उनका कहना है कि 20 हजार दे दो तुम्हें प्रधानमंत्री आवास दे देंगे। इस पर लक्ष्मीबाई का कहना है कि मैं कच्चे मकान में रहती हूं मेरा टूटा फूटा मकान है। मेरे पास 20 हजार रुपये नहीं है। मैंने 20 हजार रुपए सरपंच सचिव को नहीं दिए तो उन्होंने मुझे प्रधानमंत्री आवास अब तक नहीं दिया है। वहीं जीतमल मालवीय ने बताया कि मेरे शौचालय के पैसे सरपंच सचिव द्वारा निकाल दिए गए हैं लगभग 2 साल पहले सचिव ने मुझसे बोला था कि तुम तुम्हारे पैसे से शौचालय बनवा लो मैं तुम्हें पैसे निकला दूंगा इसके बाद फोटो खींचकर सरपंच सचिव ले गए लेकिन शौचालय की राशि अब तक नहीं डाली है। वही गीता बाई पत्नी सूरज मालवीय ने बताया कि मुझे प्रधानमंत्री आवास मिल चुका है लेकिन सरपंच सचिव ने पांच हजार लिए इसके बाद हमें प्रधानमंत्री आवास दिया है। वहीं ग्रामीण लाल दास ने बताया कि मेरी बेटी विकलांग है लेकिन उसकी पेंशन के लिए मैं लगातार पंचायत के चक्कर काट रहा हूं सरपंच सचिव पंचायत में आते नहीं है पंचायत में ताला लगा रहता है इसके बाद कभी कबार आते तब मैं उनसे बात करता हूं तो वह बोलते हैं हर काम में पैसा लगता है पेंशन बनवाना हो तो पैसे लेकर आओ। मई ग्रामीण बिहारीलाल एवं सावतसिंह दुगारिया ने बताया कि हमारी ग्राम पंचायत उमरखाल में सरपंच सचिव द्वारा शौचालय से लगाकर प्रधानमंत्री आवास पेंशन सभी योजनाओं में भ्रष्टाचार किया है हमारी ग्राम पंचायत भ्रष्टाचार में पूरी तरह लिप्त है अगर इसकी उच्च अधिकारी जांच करें तो इसमें कई प्रकार के भ्रष्टाचार निकलेंगे। उनका कहना है कि शमशान में चबूतरा आया था उसके ₹50000 सरपंच सचिव द्वारा निकाल दिए गए हैं लेकिन श्मशान में अब तक चबूतरा नहीं है। और गांव में पूरी तरह गंदगी पडी हुई है। कहीं रोड नहीं है कई रोड के पैसे सरपंच सचिव द्वारा निकाल लिए गए हैं।
ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरपंच बाबूलाल एवं सचिव जगदीश जाट अधिकतर रोजगार सहायक एवं उपसरपंच को ग्रामीणों के पास योजनाओं के नाम पर पैसे लेने के लिए भेजते हैं।
ग्रामीण बिहारीलाल मालवीय का कहना है कि शासकीय राशि का दुरुपयोग करते हुए भ्रष्टाचार में अपनी हिस्सेदारी निभा रहे हैं।हमारी ग्राम पंचायत के सरपंच सचिव इस मामले में अब ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम पंचायत उम्र खाल की उच्च अधिकारियों द्वारा जांच करवाई जाए और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए यदि जांच एवं कार्रवाई नहीं की गई। तो हम सचिव को गांव के अंदर प्रवेश नहीं करने देंगे। और इस मामले पर कार्रवाई नहीं की गई तो जनपद पंचायत का घेराव करेंगे।

वर्जन

टीम भेजकर मामले की जांच करवाता हूं।

हर्षसिंह सीईओ
जिला पंचायत सीहोर

आपके द्वारा मामला संज्ञान में आया है,मामले की जांच करवाई जाएगी।

आयुषी गोयल सीईओ
जनपद पंचायत इछावर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close