UNCATEGORIZED

सीहोर : आंदोलन के 06 माह पूर्ण होने पर विरोध स्वरूप किसानों ने मनाया काला दिवस

सांकेतिक प्रदर्शन

आंदोलन के 06 माह पूर्ण होने पर किसानों ने मनाया काला दिवस,

आन्दोलन में अब तक 475 किसानों की शहादत, ,
केंद्र सरकार चुप क्यों- बैरागी

सीहोर, एमपी मीडिया पॉइंट

संयुक्त किसान मोर्चा अखिल भारतीय किसान सभा के द्वारा बुधवार को किसान आंदोलन के 6 माह पूर्ण होने पर श्यामपुर में काला दिवस मनाया गया।
दिल्ली में किसान अनिश्चितकलीन धरना दे रहे हैं और आन्दोलन में अब तक 475 किसानों की शहादत हो चुकी है।

अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेश महासचिव एवं संयुक्त किसान मोर्चा मध्यप्रदेश के वर्किंग कमेटी सदस्य प्रह्लाद दास बैरागी और सीहेार जिलाध्यक्ष भानूप्रताप मेवाड़ा ने किसान मोर्चा से जुडे कार्यकर्ताओं को संबांधित किया।

आक्रोशित किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं द्वारा सांकेतिक रूप से प्रधानमंत्री का पुतला जलाकर केंद्र सरकार के द्वारा किसानों के द्वारा की जा रही मांगों को पूरा नहीं करने को लेकर नारेबाजी कर हल्का प्रदर्शन किया गया।

संयुक्त किसान मोर्चा मध्यप्रदेश के वर्किंग कमेटी सदस्य प्रह्लाद दास बैरागी ने कहा कि दिल्ली में चल रहे किसान आन्दोलन को 6 माह पूरे हो चुके हैं 26 नवम्बर 2020 से किसान देश की राजधानी दिल्ली की सीमा पर शांतिपूर्ण ढंग से विरोध कर रहे हैं लेकिन केन्द्र सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंगी है। जो कि बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण हैं।जब देश के किसानों के जत्थे दिल्ली प्रदर्शन में भाग लेने के लिए जा रहे थे तो उतर प्रदेश की सीमा पर बलपूर्वक रोक गया, जिसके विरोध में मध्यप्रदेश महाराष्ट्र और गुजरात के किसानों के द्वारा भी धौलपुर उत्तरप्रदेश की सीमा पर 72 घंटे का जाम लगाना पड़ा।

बैरागी ने कहा की कृषि उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी देने वाला कानून बनाने की मांग की गई
लेकिन सरकार ने आज तक किसानों की इन मांगो के लिए कोई कदम नहीं उठाया उलटा आन्दोलन को बदनाम करने की कोशिश की। पिछले छह माह से किसान दिल्ली की सीमाओं पर तीनों कृषि कानून रद्द करने,बिजली संशोधन बिल वापस लेने कृषि उत्पादों की लागत का डेढ़ गुना दाम की कानूनी गारंटी की मांग कर रहे है। अनिश्चितकलीन धरना दे रहे हैं आन्दोलन में अब तक 475 किसानों की शहादत हो चुकी है। लेकिन केन्द्र सरकार ने 22 जनवरी के बाद किसानों से चर्चा नहीं की है। इस लिए किसानों के द्वारा काला दिवस मनाया जा रहा है।

जिलाध्यक्ष भानूप्रताप मेवाड़ा ने कहा की मध्यप्रदेश में एम एस पी पर किसानों के पूरे गेहूँ की खऱीदी न किया जाना यह बतलाता है कि शिवराज सिंह चौहान सरकार मंडी व्यवस्था को ध्वस्त करना चाहती है तथा यहाँ प्राईवेट मंडी व्यवस्था को प्रदेश के किसानों पर थोपना के लिए अमादा है
शिवराज सिंह सरकार मोदी सरकार की तरह दमनकारी नीति अपना रही है। किसानों को अपनी उपज,सब्जी ओर दूध बाज़ार तक पहुंचाने से रोका जा रहा है। प्रदर्शन में धनसिंह रवि कुमार, आलीम भाइर्, राजेश अहीरवार, नीरज आदि किसान कार्यकर्ता शामिल थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close