सीहोर

3 किलोमीटर दूर से पानी लाने को मजबूर ग्रामीण

       राजेश बनासिया
भाऊँखेड़ी एमपी मीडिया पॉइंट

जल स्रोत सूखने से बूंद बूंद पानी के लिए ग्रामीणों को करना पड़ रही है। मशक्कत गर्मी ने एक और जहां लोगों को हलाकान कर दिया है। ऐसे में जल स्रोतों के दम तोड़ देने के कारण लोगों को भीषण जल संकट का सामना करना पड़ रहा है। सीहोर के इछावर ब्लॉक की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत भाऊँखेड़ी में ग्रामीणों को गांव से बाहर 3 किलोमीटर दूर खेतों से पानी लाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। इसके बावजूद भी ना तो प्रशासन का इस ओर ध्यान है। और ना ही जनप्रतिनिधियों का कोई भी ग्रामीणों की सुध लेने को तैयार नहीं है। सात हजार की आबादी वाले ब्लॉक के सबसे बड़े गांव भाऊँखेड़ी में ग्राम के अंदर नहीं एक भी पानी का स्रोत सब लोग कुओ पर निर्भर है संसाधन होने के बाद ग्राम पंचायत प्यासी आवाम को पानी मुहैया कराने में नाकामयाब हो रही है लोग सायकिल से गांव से 3 किलोमीटर दूर पीर महाराज की दरगाह से पानी ला रहे हैं इस और पीएचई विभाग का ध्यान नहीं होने से ग्रामीणों में खासा आक्रोश व्याप्त हैं। ग्राम की नल जल योजना पूरी तरह से बंद है तहसील के सबसे बड़े गांव गांव भाऊँखेड़ी में भीषण जल संकट की स्थिति निर्मित है ग्रामीण दूरदराज से खेतों से पानी की व्यवस्था करना पड़ रही है ऐसे में उनका पूरा दिन पानी की व्यवस्था करने में ही गुजर रहा है।ग्रामीण राकेश वर्मा,शुभम वर्मा ने बताया कि ग्राम पंचायत और पीएचई विभाग की लापरवाही के कारण गांव में जल संकट की स्थिति निर्मित हुई है। जनवरी माह से ही गांव की नल जल योजना बंद पड़ी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close